मंगलवार, 22 जून 2010

कौन डरता है यहां पागल हो जाने से...

फुटपाथ के मल-मूत्र में डूबे हिस्से पर
अगर एक आदमी
अपने स्वप्न की गठरियां सजाता है
रात ढले
और चांदनी बिखरने लगती है
उससे फूटती उबकाई पर
और आखिरकार मुंह बाएं
सो जाता है वह
और यह दृश्य देख हम होश में हैं
तो तय है
कि हमें होश में रहने की बीमारी है

कौन डरता है यहां पागल हो जाने से

आपका एक अपना जब
आधी रात को
छोड जाता है आपको
भटकने को प्लेटफार्म पर
और चांद के धब्बे निहारते
आप बिता देते हैं बाकी रात

कौन डरता है यहां पागल हो जाने से

अगर एक लफंगा
हीरे की अंगूठी की चमक को
अपनी आंखों की चमक पर
तरजीह देता
इतराता है
अपने बिकाउ या सेलीब्रिटी हो जाने पर

कौन डरता है यहां पागल हो जाने से

लोग जब रहे नहीं
ना रहा दुख
ना रही भाषा
बस प्रत्याशा रह गयी
विज्ञापनों में कूकती

कौन डरता है यहां पागल हो जाने से।

कोई टिप्पणी नहीं:

मुखर बौद्धिक कवि : कुमार मुकुल ... कृष्ण समिद्ध

( आज मुकुल जी को दुसरी बार सुना...मुझे उनके स्वेत धवल बालों से जलन हैं...वो मुझे भी चाहिए था .) कविता तब दीर्घजीवी होती है ....जब समय को ...