रविवार, 27 जून 2010

उदासी के साथ अकेले

अकेले

उदासी के साथ रहना

एक तरह की आश्वस्ति देता है

- कि
इस अकेलेपन को
हम

खत्म कर सकते हैं

कभी भी

उस डर के मुकाबिल

कि
किसी के साथ रहकर भी

जो
अकेले रह गए
तो...

कोई टिप्पणी नहीं:

मुखर बौद्धिक कवि : कुमार मुकुल ... कृष्ण समिद्ध

( आज मुकुल जी को दुसरी बार सुना...मुझे उनके स्वेत धवल बालों से जलन हैं...वो मुझे भी चाहिए था .) कविता तब दीर्घजीवी होती है ....जब समय को ...