बुधवार, 23 जून 2010

संतोषम परम सुखम

सन्तोष बड़ा सुख है
ज्ञानी विचार से सन्तुष्ट होता है
बुद्धिमान तर्क से
मूरख अपनी आस्थाओं से सन्तुष्ट होता है
और जड़ अपनी जड़ताओं के टूटने से

तमाम डरों के प्रति अपनी जिज्ञासाओं से
सन्तुष्ट होते हैं बच्चे
बच्चों के डरों को जानकर
ख़ुश होते हैं बूढ़े
कि वे भी उन्हीं के समान हैं

लगाम कसे जाने पर
बिगड़ैल घोड़ों की तरह भागता
युवा ख़ुश होता है
तमाम पाबंदियों को बिसारकर
सन्तुष्ट होती है युवती

युवा समझे जाने पर किशोर ख़ुश होता है
नवोदित वक्षों में खदबदाती
गौरैयों को छेड़कर
खुश होती है किशोरी

विरह में प्रेमी ख़ुश होते हैं
मिलन में कामी
बन्धने पर तन ख़ुश होता है
स्वतन्त्र छोड़ देने पर मन

हवाई दुर्घटनाओं की ख़बर सुनकर
क्रान्तिकारी ख़ुश होता है
कि चलो दलालों की एक खेप कम हुई
ख़बरों को पाकर
ख़बरनवीस सन्तुष्ट होता है
उन्हें दबाकर संपादक

पर राजनीतिज्ञ और हत्यारे
कभी ख़ुश नहीं होते
अपने हर क़दम के बाद
ख़ुद को वे
और घिरा पाते हैं।

1 टिप्पणी:

L.Goswami ने कहा…

नया ब्लॉग ....

..सुन्दर ... :-)

फेशबुक - एक आत्‍मालोचना

अपना चेहरा उठाए खडे हैं हम बारहा मुकाबिल आपके अब आंखें हैं पर द़ष्टि नहीं है मन हैं पर उसकी उडान की बोर्ड से कंपूटर स्‍क्रीन तक है...