मंगलवार, 17 अगस्त 2010

पूरबा हवा है यह

स्‍नेहिल आगोश की
निरंतरता में समोती हमें
पूरबा हवा है यह

आकाश का
नम नीलापन

हमारी आंखों में
आंजती

भीतर को
करती बाहर

बाहर को
भरती भीतर
हवा है यह

कोई टिप्पणी नहीं:

फेशबुक - एक आत्‍मालोचना

अपना चेहरा उठाए खडे हैं हम बारहा मुकाबिल आपके अब आंखें हैं पर द़ष्टि नहीं है मन हैं पर उसकी उडान की बोर्ड से कंपूटर स्‍क्रीन तक है...