रविवार, 20 फ़रवरी 2011

लोकायत

शरीर
तू है 
तो आत्मा की 
जय जय है

जो तू न हो तो 
कोई कैसे कह सकता है 
कि आत्मा 
क्या शै  है ...




कोई टिप्पणी नहीं:

मुखर बौद्धिक कवि : कुमार मुकुल ... कृष्ण समिद्ध

( आज मुकुल जी को दुसरी बार सुना...मुझे उनके स्वेत धवल बालों से जलन हैं...वो मुझे भी चाहिए था .) कविता तब दीर्घजीवी होती है ....जब समय को ...