रविवार, 20 फ़रवरी 2011

लोकायत

शरीर
तू है 
तो आत्मा की 
जय जय है

जो तू न हो तो 
कोई कैसे कह सकता है 
कि आत्मा 
क्या शै  है ...




कोई टिप्पणी नहीं:

फेशबुक - एक आत्‍मालोचना

अपना चेहरा उठाए खडे हैं हम बारहा मुकाबिल आपके अब आंखें हैं पर द़ष्टि नहीं है मन हैं पर उसकी उडान की बोर्ड से कंपूटर स्‍क्रीन तक है...